Rule Changing From 1 January 2024: 1 जनवरी से बदल रहा है यह बड़ा नियम, इन यूजर के बन्द हो जाएंगे Paytm, PhonePe, Google Pay, जानिए पूरी अपडेट

WhatsApp Group Join Now
Telegram Channel Join Now

आज के समय में लगभग हर एक व्यक्ति पैसो के ट्रांजेक्शन के लिए ऑनलाइन माध्यम अपनाते है। डिजिटली रूप से पैसो के ट्रांजेक्शन की सुविधा से अब लोगो को साथ में कैश रखने की जरूरत नही रहती है।

पैसो के चोरी होने जैसे खतरों से भी छुटकारा मिला है। यदि आप भी उन लोगो में से है जो अपने अधिकतर काम के लिए ऑनलाइन पेमेंट करते है तो आपके लिए आज का यह आर्टिकल बेहद ही महत्वपूर्ण रहने वाला है क्योंकि इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको NPCI द्वारा किए जाने वाले बड़े बदलाव के बारे में बताने वाले है।

सरकारी भर्तियों व योजनाओं से जुडी अपडेट सबसे पहले पाने के लिए टेलीग्राम चैनल ज्वाइन करें - यहाँ क्लिक करें

हम आपको बता दे की किन UPI यूजर को गूगल पे, फोनपे, पेटीएम से हाथ धोना पड़ेगा। दरअसल NPCI ने 1 जनवरी 2024 से एक नियम में बड़ा बदलाव किया है।

1 जनवरी से NPCI उन UPI आईडी को ब्लॉक कर देगा जो की पिछले एक साल से किसी भी प्रकार का ट्रांजेक्शन नहीं कर पाए। नेशनल पेमेंट्स कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया (NPCI) एक नए दिशानिर्देशों की घोषणा की है।

वे लोग जिन्होंने अपनी UPI आईडी से पिछले एक साल से कोई लेन देन नही किया है उनके लिए परेशानियां बढ़ सकती है। सभी बैंक, गूगल पे, फोन पे, पेटीएम जैसी थर्ड पार्टी ऐप ऐसे यूजर को ब्लॉक कर देगा। 31 दिसम्बर के बाद से यह रूल लागु हो जाएगा। आइये जानते है पूरी अपडेट।

इन अकाउंट को बंद किया जाएग

NPCI ने नियम में एक बड़ा बदलाव किया है। यदि आपकी UPI आईडी से किसी भी प्रकार का लेन-देन पिछले एक साल से बन्द है तो आपकी यूपीआई आईडी बन्द कर दी जाएगी।

READ THIS-   7th Pay Commission Latest Update: केंद्रीय कर्मचारियों के लिए जल्द ही 3% और बढ़ जाएगा ये भत्ता सैलेरी में आएगा तगड़ा उछाल, जाने पूरी खबर

नए साल यानी की 1 जनवरी से ग्राहक अपनी UPI आईडी से ट्रांजेक्शन नही कर पाएंगे। NPCI के दिशानिर्देशों के अनुसार ऐसे यूजर को ब्लॉक कर दिया जाएगा।

नेशनल पेमेंट्स कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया (NPCI) बैंको और थर्ड पार्टी ऐप्स को 31 दिसम्बर 2023 तक ऐसी यूपीआई आईडी पहचान के लिए समय दिया है।

यदि आपने भी पिछले एक साल से अपनी UPI आईडी से कोई लेन-देन नहीं किया है तो आपके संबंधित बैंक आपकी UPI आईडी को निष्क्रिय करने से पहले आपको ई-मेल पर या संदेश पर मैसेज भेजेगा।

यह नियम क्यों बनाया गया

नेशनल पेमेंट्स कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया (NPCI) को उम्मीद है कि नियमो में इस प्रकार के बदलाव से गलत लोगो के खातों में पैसा ट्रांसफर होने से रोका जा सकेगा।

इस तरह के कई मामले सामने आए है। इसीलिए NPCI इन पर रोक लगाने का पूरा प्रयास कर रही है। अक्सर लोग अपने नए फोन से जुडी यूपीआई आईडी को बंद करने के बारे में याद किए बिना अपने मोबाइल नंबर बदल देते है।

कुछ दिनों से बन्द होने के कारण अन्य व्यक्तियों को नंबर तक पहुँच पाता है। हालांकि केवल पिछली UPI आईडी ही इस नंबर से जुडी रहती है। ऐसे में गलत ट्रांजेक्शन होने की संभावना बढ़ जाती है। इस बदलाव के बाद से अब नए साल से यह खतरा भी कम होगा।

Join WhatsApp