Rajasthan Election 2023: कांग्रेस ने रचा इतिहास तो कौन बनेगा मुख्यमंत्री? मुख्यंमंत्री के लिए कांग्रेस के ये 5 दावेदार आ रहे है सामने

WhatsApp Group Join Now
Telegram Channel Join Now

राजस्थान में विधासभा चुनाव 25 दिसम्बर 2023 को सम्पन्न हुए थे। विधानसभा चुनाव होते ही अब आम लोगो को और प्रत्याशियों को चुनाव परिणाम आने का इन्तजार है। 3 दिसम्बर 2023 यानी की आज ही के दिन चुनाव के नतीजे आने वाले है ऐसे में उम्मीदवारों की धड़कने बढ़ी हुई है।

राजस्थान के इस चुनाव में यदि कांग्रेस आगे आती है तो कांग्रेस एक नया इतिहास रचेगी क्योंकि यह तो हम जानते है की राजस्थान में पिछले तीन दशकों से कोई भी सरकार रिपीट नहीं हुई है। अब यह एक नया इतिहास बनेगा या नहीं यह तो नतीजे आने पर ही देखा जाएगा।

सरकारी भर्तियों व योजनाओं से जुडी अपडेट सबसे पहले पाने के लिए टेलीग्राम चैनल ज्वाइन करें - यहाँ क्लिक करें

राजस्थान में कांग्रेस सरकार ने आचार संहिता से पहले कई नई योजनाओ का संचालन किया था और इसी के साथ चुनाव के नजदीक समय में कांग्रेस ने जनता को 7 गारंटी भी प्रदान की है, जो की कांग्रेस ने अगली बार सरकार बनने पर पूरा किए जाने का दावा किया है। कांग्रेस ने अशोक गहलोत को मुख्यमंत्री फेस डिक्लेयर नहीं किया है।

आज के इस लेख के माध्यम से हम आपको बताएंगे की यदि इस बार कांग्रेस रिपीट होती है तो मुख्यमंत्री का दावेदार कौन होगा? हम आपको 5 संभावित मुख्यमंत्री दावेदार के नाम बताने जा रहे है।

अशोक गहलोत

राजस्थान में यदि कांग्रेस फिर से आती है तो मुख्यमंत्री के लिए अशोक गहलोत प्रबल दावेदार रहेंगे, क्योंकि उनकी योजनाओ के बलबूते पर ही कांग्रेस रिपीट हो सकती है और इसके बलबूते पर ही कांग्रेस मजबूती से चुनाव लड़ी।

READ THIS-   Rajasthan CET 2024 Update: राजस्थान समान पात्रता परीक्षा को लेकर अपडेट जारी, जानिए इस साल कब आयोजित होगी सीईटी परीक्षा

जानकारी के लिए बता दे की अशोक गहलोत मुख्यमंत्री पद पर तीन बार रह चुके है पहली बार 1998 से 2003, दूसरी बार 2008 से 2013 और तीसरी बार 2018 से 2023 तक।

अशोक गहलोत ने केंद्रिय मंत्री, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष और राष्ट्रीय महासचिव जैसे पदों का भी दायित्व संभाला है। लोगो के द्वारा इन्हे सियासत का जादूगर कहा जाता है। अशोक गहलोत के बारे में उनके करीबी कहते है की वे बांए हाथ से अगला दांव कौनसा खेलेंगे यह दाएं हाथ को भी नहीं पता होता है।

सचिन पायलट

अगर हम राजस्थान में कांग्रेस के मुख्यमंत्री के दूसरे प्रबल दावेदार की बात करे तो वो है सचिन पायलट। जैसा की हम जानते है सचिन पायलट 2018 में भी मुख्यमंत्री पद के लिए प्रबल दावेदार रहे। हालांकि उन्हें बाद में उपमुख्यमंत्री पद पर रखकर ही संतुष्ट रखा गया।

बता दे की सचिन पायलट के नाम सबसे कम उम्र में सांसद बनने का भी रिकॉर्ड है। जब साल 2013 में कांग्रेस की शर्मनाक हर हुई थी तब उस समय सचिन पायलट ने ही पार्टी और संगठन को मजबूती से खड़ा किया था। प्रियंका गांधी और राहुल गांधी के भी विश्वनीय माने जाते है।

गोविन्द सिंह डोटासरा

गोविन्द सिंह डोटासरा को भी एक प्रबल दावेदार माना जा रहा है। गोविन्द सिंह डोटासरा राज्य के शिक्षा मंत्री रह चुके है और इसके साथ वे प्रदेश अध्यक्ष पद पर भी रहे। गोविन्द सिंह डोटासरा भी काफी सुर्खियों में रहे है। गोविन्द सिंह डोटासरा ने प्रदेश अध्यक्ष पद की भूमिका भी बखूबी निभाई है। इसीलिए जाट समुदाय से आने वाले गोविन्द सिंह डोटासरा भी मुखमंत्री के प्रबल दावेदार है।

READ THIS-   Kisan Karj Mafi List 2023 Kaise Check Kare: किसानों का कर्ज हुआ माफ़, घर बैठे किसान कर्ज माफ़ी सूची चेक करें, ये है पूरी प्रक्रिया

सीपी जोशी

राजस्थान में यदि कांग्रेस रिपीट होती है तो सीपी जोशी भी मुख्यमंत्री के लिए प्रबल दावेदार रहेंगे। सीपी जोशी राजस्थान में विधानसभा अध्यक्ष पद पर है और पद पर रहते हुए इन्होने एक अहम भूमिका निभाई है। जानकारी के लिए बता दे की सीपी जोशी साल 2008 में कांग्रेस के सबसे प्रबल दावेदार रहे लेकिन महज एक वोट से हार गए थे। अब यदि राजस्थान में कांग्रेस आगे रहती है तो उनके लिए सीपी जोशी भी सीएम के प्रबल दावेदार होंगे।

गोविंद राम मेघवाल

दलित समुदाय से आने वाले गोविंद राम मेघवाल भी मुख्यमंत्री पद के लिए प्रबल दावेदार हो सकते है। मंत्री गोविंद राम मेघवाल को कांग्रेस ने कैम्पेन कमिटी का अध्यक्ष बनाया था। कांग्रेस ने गोविंद राम मेघवाल को पार्टी और संगठन में कई सारी जिम्मेदारियां सौंपी थी।

Join WhatsApp