Old Pension Scheme Big Update: बड़ी अपडेट! केंद्रीय कर्मचारियों के लिए पुरानी पेंशन बहाल करने को लेकर आई बड़ी खबर, संसद में ऐलान, जाने पूरी खबर

WhatsApp Group Join Now
Telegram Channel Join Now

केंद्रीय कर्मचारियों के मन में पुरानी पेंशन स्कीम को लेकर कई सारे सवाल खड़े हो रहे है जिनमे से एक सवाल यह भी है की क्या फिर से केंद्र सरकार पुरानी पेंशन को लागू कर सकती है।

केंद्र सरकार ने सोमवार को लोकसभा में इस बात को लेकर एक बार फिर से अपना रुख साफ किया है। बता दे की वित राज्य मंत्री पंकज चौधरी ने इस कहा की पुरानी पेंशन स्कीम को लेकर कहा की सरकार के पास पुरानी पेंशन बहाली से संबंधित ऐसा कोई प्रस्ताव नहीं है।

सरकारी भर्तियों व योजनाओं से जुडी अपडेट सबसे पहले पाने के लिए टेलीग्राम चैनल ज्वाइन करें - यहाँ क्लिक करें

वित मंत्रालय में राज्य मंत्री पंकज चौधरी ने लोकसभा में बताया की केंद्रीय कर्मचारियों के लिए नेशनल पेंशन सिस्टम (NPS) से जुड़े मुद्दे देखने के लिए और इसके साथ अन्य आवश्यक परिवर्तन के लिए वित सचिव की अध्यक्षता में एक समिति का गठन किया जाएगा। अभी तक तो सरकार ने ऐसा कोई प्रस्ताव नहीं बनाया है जिससे की OPS के बहाली को लेकर कोई बात हो सके।

राज्य मंत्री पंकज चौधरी ने लोकसभा में बताया की देश में 11,41,985 सिविल पेंशनभोगी, 33,87,173 रक्षा पेंशनभोगी (सिविल पेंशनभोगी सहित रक्षा पेंशनभोगी), 4,38,758 दूर संचार पेंशनभोगी, 15,25,768 रेलवे पेंशनभोगी और 3,01,765 डाक पेंशनभोगी है। इन्हे मिलाकर कुल 67,95,449 पेंशनभोगी है। पंकज चौधरी ने बताया की राज्य सरकार के पेंशनभोगियों को लेकर कोई डेटाबेस नहीं रखती है।

इन राज्यों में लागू हो चूका है OPS

ओल्ड पेंशन स्कीम को लेकर सरकार ने लोकसभा में बताया की इन राज्यों में OPS लागू कर दी है जो की निम्न है- राजस्थान, छत्तीसगढ़, झारखंड, पंजाब और हिमाचल प्रदेश। ओल्ड पेंशन स्कीम को लेकर राज्य सरकार ने सरकार केंद्र सरकार , पेंशन निधि नियामक और विकास प्राधिकरण (PFRDA) को अपने निर्णय बारे में बताया है।

READ THIS-   Business Ideas: ना फ्रेंचाइजी ना स्टार्टअप, बस मुँह उठाकर घूमने के लाख रुपए महीने के कमाए, जाने पूरी डिटेल

इन सभी राज्य सरकारों ने अंशदान की निकासी के लिए और उस पर प्राप्त लाभ के लिए अनुरोध किया है। हालंकि इस पर पंजाब सरकार ने केंद्र सरकार को भी सूचित किया है की  NPS में कर्मचारी और सरकारी अंशदान का भुगतान जारी रखेगी।

Join WhatsApp