Mutual Fund: म्‍यूचुअल फंड क्या होता है, क्या निवेशक इसमें लगे पूरे पैसे खो सकते है? जानिए म्‍यूचुअल फंड की सम्पूर्ण जानकारी

WhatsApp Group Join Now
Telegram Channel Join Now

भारत में म्‍यूचुअल फंड का क्रेज काफी बढ़ता जा रहा है। वे लोग जो की म्‍यूचुअल फंड के बारे में नहीं जानते है उन्होंने भी म्‍यूचुअल फंड का नाम सूना होगा। म्‍यूचुअल फंड के बढ़ते हुए क्रेज को देखकर हर एक व्यक्ति के दिमाग में म्‍यूचुअल फंड के बारे में जानने की इच्छा होती है।

लोग म्‍यूचुअल फंड के बारे में जानकर इसमें अपना निवेश करने के बारे में सोचते है। यदि आप भी म्‍यूचुअल फंड से संबंधित सम्पूर्ण जानकारी लेना चाहते हो तो आज का यह आर्टिकल आपके लिए बेहद ही महत्वपूर्ण रहने वाला है। जैसा की हम जानते है आजकल म्‍यूचुअल फंड के खूब चर्चे है।

सरकारी भर्तियों व योजनाओं से जुडी अपडेट सबसे पहले पाने के लिए टेलीग्राम चैनल ज्वाइन करें - यहाँ क्लिक करें

भारत में लाखो की तादात में लोग म्‍यूचुअल फंड में अपना निवेश कर रहे है। निवेश करने वाले तो आपस में इसके चर्चे कर ही रहे है लेकिन जो लोग इसमें निवेश नहीं कर रहे है वे भी म्‍यूचुअल फंड का जिक्र कर रहे है।

म्‍यूचुअल फंड से संबंधित यह लाइन लोगो ने बहुत बार सुनी होगी “म्‍यूचुअल फंड निवेश बाजार जोखिमों के अधीन है” , इस लाइन ने भी लोगो के मन में काफी डर पैदा कर रखा है। म्‍यूचुअल फंड कुछ लोगो को जितना ज्यादा लुभा रहा है उतना डरा भी रहा है।

हम जानते है की अच्छे रिटर्न के लिए म्‍यूचुअल फंड बढ़िया विकल्प हो सकता है लेकिन इसमें रिस्क जरूर रहता है। अभी भी काफी सारे लोगो ने यह नहीं पता है की म्‍यूचुअल फंड क्या होता है, इसमें निवेश कैसे करना होता है, यह कितना जोखिम भरा है, इसमें रिटर्न की क्या संभावना रहती है। आइये जानते है इस लेख के माध्यम से विस्तृत जानकारी।

म्‍यूचुअल फंड क्या है ?

म्‍यूचुअल फंड निवेश का एक प्लेटफॉर्म होता है, जिसमे कई सारी निवेश स्कीम शामिल होती है। म्‍यूचुअल फंड में लोग अपना पैसा निवेश करते है इस पैसे को एक जगह जमा किया जाता है इसके बाद निवेशकों से इकट्ठे हुए पैसे को मनी मार्केट इंस्‍ट्रुमेंट, स्टॉक, बांड और अन्य जगहों पर लगाए जाते है।

READ THIS-   7 Guarantees by Rajasthan CM Gehlot: गहलोत का मास्टरस्ट्रोक! मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने दी प्रदेश के लोगों को 7 गारन्टी, जानिए पूरी अपडेट

बता दे की म्‍यूचुअल फंड को एसेट मैनेजमेंट कंपनियां (AMC) मेनेज करती है। प्रत्येक AMC में कई प्रकार की म्‍यूचुअल फंड स्कीम शामिल होती है। म्‍यूचुअल फंड के निवेशक को रिटर्न फंड के लाभ, हानि, आय और व्यय के अनुपात में हिस्सा मिलता है।

म्‍यूचुअल फंड में लगे पैसे बाजार जोखिमों के अधीन है। इसमें निवेश पैसे का बड़ा रिटर्न भी मिल सकता ही और नहीं भी। अगर हम आसान शब्दों में समझाए तो म्‍यूचुअल फंड में निवेश करना एक बड़े पिज्जा का छोटा टुकड़ा खरीदने जैसा है।

म्‍यूचुअल फंड कई तरह के होते है

यदि आप भी म्‍यूचुअल फंड में अपना पैसा निवेश करना चाहते है तो आप म्‍यूचुअल फंड के प्रकार के बारे में जानकारी ले सकते हो जो की निम्न है –

  • Equity Funds- निवेशको से लिए पैसे को इक्विटी फंड से शेयर बाजार में लगाए जाते है।
  • Debt Funds- निवेशकों से लिए गए पैसो को डेट फंड से निश्चित आय वाले साधनो जैसे ट्रेजरी बिल, कॉरपोरेट बॉन्ड और गवर्नमेंट सिक्योरिटीज में लगाए जाते है। डेट फंड में स्थिरता होती है इसके साथ ही डेट फंड में बाजार के उतार-चढ़ाव का इन पर असर कम रहता है। वे निवेशक जो की कम जोखिम चाहते है वे डेट फंड में अपना पैसा जमा करने का ऑप्शन ले सकते है।
  • Hybrid Funds- हाइब्रिड फंड जिसे बैलेंस्ड फंड भी कहा जाता है, यह इक्विटी और डेट फंड का मिश्रण होता है। वे निवेशक जो की शेयर बाजार में फायदा तो उठाना चाहते है लेकिन जोखिम नहीं लेना चाहते है उनके लिए यह ऑप्शन रहता है।
  • Solution Oriented Fund- रिटायरमेंट, बच्चों की उच्च शिक्षा और शादी आदि के लिए जो निवेशक अपना पैसा जमा करना चाहते है वे इसमें निवेश कर सकते है। यह फंड इक्विटी, डेट और हाइब्रिड फंड का मिश्रण होता है।
READ THIS-   RAS Mains Exam Date 2024: आरएएस मुख्य परीक्षा की नई परीक्षा तिथि जारी, जानिए कब आयोजित होगी मुख्य परीक्षा

म्‍यूचुअल फंड में निवेश कैसे करे ?

म्‍यूचुअल फंड में पैसा लगाने के लिए आप एकमुश्त पैसे जमा कराने का ऑप्शन भी चुन सकते हो यानी की आप इसमें एकमुश्त पैसा भी जमा करा सकते हो। इसके अलावा आप चाहे तो सिस्‍टेमैटिक इन्‍वेस्‍टमेंट प्‍लान (SIP) के माध्यम से भी अपना पैसा जमा कर सकते हो। म्‍यूचुअल फंड में निवेश के आपके पास 2 तरिके है।

आप चाहे तो पैसे डायरेक्ट निवेश कर सकते हो या चाहे तो रेगुलर निवेश कर सकते हो। यदि आप डायरेक्ट निवेश करना चाहते हो तो आप म्‍यूचुअल फंड की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर अपना निवेश कर सकते हो। इसमें आप एडवाइजर, ब्रोकर या डिस्ट्रीब्यूटर के माध्यम से भी अपना पैसा लगा सकते हो।

डायरेक्ट निवेश से आपको फंड हॉउस को कम चार्ज करना रहता है। यानी की एक्सपेंस रेशियो कम रहता है। वही अगर हम रेगुलर प्लान की बात करे तो इसमें एक्सपेंश रेशियो ज्यादा होता है। ऑनलाइन निवेश और फंड सलेक्शन से वाकिफ है वे डायरेक्ट निवेश कर सकते है।

शुल्क और कमाई पर लगता है टैक्स

म्‍यूचुअल फंड शॉर्ट टर्म कैपिटल गेन्स (STCG) और लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन्स (LTCG) नियम के अधीन आता है। आप म्‍यूचुअल फंड में अपना निवेश 500 रुपए से शुरू कर सकते हो। आपको म्‍यूचुअल फंड में कई तरह के शुल्क जमा कराने होते है।

क्या म्‍यूचुअल फंड में पुरे पैसे को खो सकते है ?

म्‍यूचुअल फंड में निवेश किए गए पैसे बाजार जोखिमों के अधीन रहते है। इसीलिए निवेश की गई राशि के खोने के खतरा रहता है। हालांकि म्‍यूचुअल फंड के अब तक के प्रदर्शन को देखते हुए यह कहा जा सकता है की इसमें निवेश किए गए पुरे पैसे खोने की संभावना कम रहती है।

READ THIS-   Post Office NSC Scheme: इस योजना में 100 रुपये निवेश करने पर पाँच साल बाद मिलेंगे 21 लाख रुपये, जानिए कैसे

कब बेच सकते है ?

अधिकांश म्‍यूचुअल फंड में निवेश किए गए पैसो को बेचकर आप कभी भी इनसे बाहर आ सकते है यानी कहा जा सकता है की म्‍यूचुअल फंड ओपन एंडेड होते है। लेकिन हां कुछ फंड क्लोज एंडेड भी होते है इनका लोक इन पीरियड होता है। उस अवधि में आप अपने फंड को बेच नहीं सकते हो। वही कुछ स्कीम ऐसी होती है जो की कुछ समय के लिए क्लोज एंडेड होती है और वापस से ओपन एंडेड हो जाती है।

Join WhatsApp