CBSE Board Update: सीबीएसई बोर्ड परीक्षा अपडेट! कक्षा 10वीं और 12वीं बोर्ड में मार्किंग सिस्टम में किया बड़ा बदलाव, सभी छात्रों को जानना जरूरी

WhatsApp Group Join Now
Telegram Channel Join Now

कक्षा 10वीं और कक्षा 12वीं बोर्ड की परीक्षा होने में कुछ समय ओर बाकी है। इससे पहले बोर्ड के द्वारा डेट शीट जारी कर दी जाएगी। केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के द्वारा कक्षा 10वीं और कक्षा 12वीं के लिए डेट शीट दिसम्बर माह के पहले वीक में जारी की जा सकती है। डेट शीट जारी होने से विद्यार्थियों को परीक्षा समय का पता चल पाएगा और वे परीक्षा तिथि से पहले अपने सिलेबस को कम्प्लीट कर सकेंगे।

मीडया रिपोर्ट्स के द्वारा यह दावा किया जा रहा है की कक्षा 10वीं और कक्षा 12वीं का टाइम टेबल दिसम्बर माह के पहले सप्ताह में जारी किए जाने की पूरी उम्मीद है। सीबीएसई बोर्ड ने 10वीं और 12वीं कक्षा के सबंध में महत्वपूर्ण सुचना जारी की है। यदि आप भी सीबीएसई 10वीं या 12वीं कक्षा में अध्ययनरत हो तो आपके लिए यह आर्टिकल बेहद ही उपयोगी रहने वाला है। आप हमारे इस लेख को अंत तक जरुर पढ़े।

कक्षा 10वीं और 12वीं बोर्ड में मार्किंग सिस्टम में किया बड़ा बदलाव- CBSE Board Update

सरकारी भर्तियों व योजनाओं से जुडी अपडेट सबसे पहले पाने के लिए टेलीग्राम चैनल ज्वाइन करें - यहाँ क्लिक करें

जैसा की हम जानते है केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के द्वारा कक्षा 10वीं और 12वीं की परीक्षा आयोजित करवाई जाती है। सीबीएसई परीक्षा नियंत्रक सयंम भारद्वाज ने पीटीआई को यह जानकारी दी है, जिसके अनुसार इस बार बोर्ड के द्वारा कक्षा 10वीं और 12वीं परीक्षाओ में कोई डिवीजन और डिस्टिंक्शन नहीं दिया जाएगा।

सीबीएसई बोर्ड को लोगो से बोर्ड एग्जाम में छात्रों के प्रतिशत की गणना के लिए मानदंड बताने के लिए अनुरोध प्राप्त हो रहे है। बोर्ड द्वारा दी गई अधिसूचना में कहा गया की “इस संबंध में सूचित किया जाता है कि परीक्षा के अध्याय 7 की उपधारा 40.1 (iii) उपनियम यह निर्धारित करते हैं कि:- कोई समग्र डिवीजन/डिस्टिंक्शन/एग्रीगेट नहीं दिया जाएगा।”

READ THIS-   राजस्थान बजट में किसानों के लिए बड़ी घोषणा! 1 लाख तक का ब्याज मुक्त लोन मिलेगा, जानिए अपडेट

यदि कोई भी छात्र या छात्रा 5 से अधिक विषयो की पेशकश करता है तो सर्वोत्तम 5 विषयो को निर्धारित करने का निर्णय प्रवेश देने वाली संस्था द्वारा लिया जाता है।

यदि कहीं पर भी उच्च शिक्षा या रोजगार के लिए अंको का प्रतिशत होना आवश्यक है तो ऐसे में प्रवेश संस्थान द्वारा किया जाएगा। केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने अस्वस्थ प्रतिस्पर्धा से बचने के लिए मेरिट सूची जारी करने की प्रथा को भी खत्म कर दिया था।

Join WhatsApp