B.ED Course Update: बड़ी खबर! 2 वर्षीय बीएड पर रोक, अब 4 वर्षीय बीएड को ही मिलेगी मान्यता, जाने पूरी खबर

WhatsApp Group Join Now
Telegram Channel Join Now

देश में नई शिक्षा नीति लागू होने के बाद में अब भारतीय पुनर्वास परिषद (आरसीआई) ने भी दो वर्षीय स्पेशल बीएड कोर्स की मान्यता देने पर रोक लगा दी है। 2024-25 सत्र से चार वर्षीय स्पेशल बीएड कोर्स को ही मान्यता दी जाएगी।

आरसीआई के अधीन दिव्यांग बच्चों के शिक्षण के प्रशिक्षण के लिए स्पेशल बीएड कोर्सेज का संचालन किया जाता है। बीएड के संबंध में आरसीएसई सदस्य सचिव विकास त्रिवेदी ने एक विशेष परिपत्र जारी किया है।

सरकारी भर्तियों व योजनाओं से जुडी अपडेट सबसे पहले पाने के लिए टेलीग्राम चैनल ज्वाइन करें - यहाँ क्लिक करें

इस परिपत्र में बताया गया कि शिक्षा सत्र 2024-25 में केवल चार वर्षीय इन्टीग्रेड बीएड कोर्स को ही मान्यता दी है। बताया गया है दो वर्षीय बीएड कोर्स की मान्यता पर रोक लगा रखी है।

इस आधार पर अब आरसीआई ने भी स्पेशल बीएड कोर्स में शिक्षा सत्र 2024-25 से दो वर्षीय बीएड कोर्स के लिए रोक लगा दी है। अब सिर्फ चार वर्षीय बीएड कोर्स को ही मान्यता दी जाएगी।

अब जल्द ही आरसीआई इसके लिए ऑनलाइन पोर्टल खोलेगी। आइये जानते है इस आर्टिकल के माध्यम से संबंधित संपूर्ण जानकारी, आप हमारे साथ इस आर्टिकल कर माध्यम से अंत तक जरूर जुड़े रहे।

एनसीटीआई जारी करेगी नया सिलेबस तैयार

एनसीटीआई द्वारा स्पेशल बीएड के इन्टीग्रेड कोर्स के लिए नया पाठ्यक्रम तैयार किया जाएगा इस पाठ्क्रम को आरसीआई द्वारा जारी किया जाएगा। स्पेशल बीएड के इन्टीग्रेड कोर्स के नए पाठ्यक्रम में नवीन शिक्षण टेक्नोलॉजी को जोड़ा जाएगा। एनसीटीआई द्वारा बीएड का यह पूरा सिलेबस छात्रों की आवश्यकताओं के अनुरूप डिजाइन किया जा रहा है।

READ THIS-   Rajasthan Election Update 2023: मतगणना से पहले जीतने वाले 199 प्रत्याशियों की लिस्ट वायरल, जानिए कौन कहाँ से जीत रहा है, कितनी सच्चाई है इस सूची में

कहाँ, कितने स्पेशल ट्रेनिंग इंस्टिट्यूट

  • भारत में इंस्टिट्यूट- 988
  • राजस्थान में इंस्टिट्यूट- 214
  • जोधपुर में इंस्टिट्यूट- 16

दिव्यांग बच्चो के लिए स्पेशल ट्रेनिंग

दिव्यांग बच्चो को पढ़ाने व गाइड करने के लिए स्पेशल बीएड में शिक्षकों को ट्रेनिंग दी जाती है। दिव्यांग बच्चे जो की सुनने, बोलने, दृष्टि बाधित, मानसिक विकलांगता आदि के लिए पाठ्यक्रमो का संचालन किया जाता है।

आरसीआई की मान्यता के बाद शिक्षण संस्थान खुद के स्तर पर दिव्यांग छात्रो को प्रवेश देते है। इसमें पीटीईटी जैसे पाठ्यक्रमो को पास करने की जरूरत नही रहती है।

एमबीएम और JNVU में भी कोर्स

आरसीआई की मान्यता के बाद काफी सालो से जेएनवीयू में हेप्से एंड टेप्सन सेंटर का संचालन हो रहा है। यहाँ पर स्पेशल बीएड, स्पेशल एमएड और डिप्लोमा पाठ्यक्रमो का संचालन हो रहा है। हाल ही में अभी एमबीएम विवि ने भी एडवांस डिप्लोमा इन काउंसलिंग एंड गाइडेंस के लिए मान्यता ली है।

Join WhatsApp