Agniveer Update: अब अग्निवीर सैनिकों को रिटायर के बाद नौकरी के लिए नहीं होना पड़ेगा परेशान, शुरू होगी कौशलवीर योजना, जाने पूरी खबर

WhatsApp Group Join Now
Telegram Channel Join Now

आज के समय में लाखों युवाओ का सपना है कि वे अग्निवीर भर्ती के तहत अपना सेलेक्शन लेकर देश की सेवा कर सके। जैसा की हम जानते है अग्निवीर भर्ती में लगने वाले सैनिकों को 4 साल के लिए सेना में रखा जाता है। उसके बाद इन 4 सालो में अपना बेस्ट प्रदर्शन देने वाले सैनिकों को रेगुलर रखा जाता है।

बाकी अन्य सैनिकों को 4 साल बाद रिटायर कर दिया जाता है। लेकिन अब युवाओं के लिए एक अच्छी खबर सामने आ रही है। अब इन सैनिकों को अपनी सेवा के चार साल पूरे होने के बाद भी नोकरी के लिए चिंता करने की जरूरत नही रहेगी। सेना के सूत्रों के मुताबिक अब ऐसे रिटायर सैनिकों के लिए कौशलवीर योजना का संचालन किया जाएगा।

सरकारी भर्तियों व योजनाओं से जुडी अपडेट सबसे पहले पाने के लिए टेलीग्राम चैनल ज्वाइन करें - यहाँ क्लिक करें

इस योजना से सैनिकों को रोजगार का मौका दिया जाएगा ताकि उन्हें रिटायर के बाद भी नोकरी की चिंता नही होगी। चार साल तक अपनी नोकरी में कौशल प्राप्त कर चुके सैनिकों को इस योजना के तहत रोजगार का अवसर प्रदान किया जाएगा। आइए जानते है इस लेख के माध्यम से कौशलवीर योजना के बारे में पूरे विस्तार से, आप हमारे इस लेख को अंत तक जरूर पढ़ें।

कौशलवीर योजना

रिटायर्ड होने वाले सैनिकों या अग्निवीरो को भविष्य में रोजगार के लिए परेशानियों का सामना न करना पड़े इसके लिए कौशलवीर योजना का संचालन किया जाएगा। अग्निवीर भर्ती के तहत अपनी सेवा दे चुके सैनिक कौशलवीर बनकर बाहर निकलते है। सेना ने अपने जवानों और सैनिकों के लिए कौशल वीर नामक योजना को शुरू करने का फैसला लिया है।

READ THIS-   Rajasthan CM Salary: राजस्थान के नए मुख्यमंत्री श्री भजन लाल शर्मा को कितनी मिलेगी सैलरी, जानिए पूरी डिटेल

अग्निवीरो को तकरीबन 500 किस्म के रोजगारपरक कौशल से लैस कराने के लिए कौशल वीर योजना का संचालन किया जाएगा। कौशलवीर योजना नेशनल स्कील डवलपमेंट काउंसलिंग की मदद से तैयार की जा रही है। यह योजना नई शिक्षा नीति और नेशनल क्रेडिट फ्रेमवर्क के अनुरूप है।

कौशलवीर योजना के तहत जवानों की स्कील को नेशनल क्रेडिट फ्रेमवर्क के साथ जोड़ा जाएगा। इसके बाद उन्हें आवश्यक प्रशिक्षण दिया जाएगा और नेशनल स्कील क्वालिफिकेशन लेवल 5.5 के अनुरूप सर्टिफिकेट प्रदान किए जाएंगे। इस योजना के तहत अग्निवीर अधिकतम उप प्रबंधक स्तर तक का रोजगार ले सकते है।

यह कौशलवीर योजना तैयार की जा रही है इसमें 500 किस्म के रोजगार को चिन्हित किया जा रहा है। किसी एक कौशल से किसी एक सैनिक को लेस किया जाएगा। इस योजना के तहत सैनिकों को रोजगार का अवसर देने के लिए देशभर में 37 स्कील सेक्टर काउंसलिंग और उससे संबन्ध 100 ट्रेनिंग संस्थानों की भी मदद ली जाएगी।

इसके साथ ही इस परियोजना में कौशल प्रमाण पत्र प्रदान करने वाली 17 एजेंसियों और आकलन करने वाली 40 एजेंसियों की मदद ली जाएगी।कौशलवीर योजना अग्निवीर सैनिकों और नियमित सैनिकों दोनों के लिए होगी। लेकिन इस योजना का ज्यादा लाभ अग्निवीर सैनिकों को दिया जाएगा क्योंकि वे कम समय के लिए सेना में रहते है।

सेना के जवानो को दिया जाएगा प्रशिक्षण

जैसा की हम जानते है सेना के जवान अपनी ड्यूटी करने के अलावा भी अन्य किस्म के तकनीकी कार्य में लगे रहते है। इसे देखते हुए ही 500 किस्म के कामो की पहचान की गई है। रिटायर से पहले सैनिकों को उनके अनुरूप अतिरिक्त प्रशिक्षण दिया जाएगा। उद्योग जगत की जरूरत के अनुरूप उन्हें तैयार किया जाएगा। ताकि सेवानिवृति के बाद उन्हें तत्काल रोजगार मिल सके।

READ THIS-   Rajasthan Uttar Matric Scholarship 2023 Online Apply: राजस्थान उत्तर मेट्रिक छात्रवृति में आवेदन शुरू, जाने आवेदन की पूरी प्रक्रिया

जवानो की स्थिति

आंकड़े बताते है की लगभग 62 हजार जवान हर साल सेवानिवृत होते है। वही हर साल 50 हजार अग्निवीरो की भर्ती हो रही है। 38 हजार अग्निवीरो का कार्यकाल 2026 में समाप्त हो जाएगा।

Join WhatsApp